Beautiful Dialogues of Hindi Movie – Sri Siddhartha Gautama

beautiful-dialogues-of-hindi-movie-sri-siddhartha-gautama

2600 वर्ष पूर्व एक पुरुष जिसने अपना सब कुछ त्याग दिया!

ये कहानी है सच्चे प्रेम की, बलिदान की, करुणा की, सहस की और प्रतिबद्धता की! सिरी सिद्धार्थ गौतम

दुःख की जननी है स्वार्थी इच्छा! लगाव और लालच, अज्ञानता, वैर भाव और द्वेष

स्वतंत्रता, ख़ुशी और शांति के लिए पथ है नैतिक, आध्यात्मिक और बौद्धिक पूर्णिता!!

…राजवंश का हमारा उत्तराधिकारी!

महापुन्यवंत, अद्वित्य एवेम श्रेष्ठ कुमार हैं!

मैं आपको जाते हुए नहीं देख सकती!

चन्ना समय आ गया है!

इसके विचार एवम शिक्षा से जग का कल्याण होगा!

चक्रवर्ती राजा से भी…गुना से भी अधिक शक्तिशाली

एक दिन ये चक्रवर्ती सम्राट बनेगा!

मैं सिद्धार्थ को नहीं छोडूंगा!

हट जाओ सिद्धार्थ!! एक कुलहीन का इतना सहस!

SHARE