‘Jeena Isi Ka Naam Hai’ Movie Dialogues

'Jeena Isi Ka Naam Hai' Movie Dialogues

मैं इस वक़्त washington DC के डार हाउस के बाहर खड़ी हूँ…

Ladies and Gentlemen, we are here tonight to recognize a very distinguished woman

दिन के चौबीस घंटों मैं सिर्फ दो चार घंटे ही मैं तुम्हें देख पाता हूँ!

फूलों को छूएंगे तो कांटे हाथ लगते हैं लेकिन उसकी खूबसूरती कम नहीं होती!

मार नहीं खाएंगी अपन…मारेंगी सबको

मैं चाहती के तुम अपनी ज़िन्दगी अपने तरीके से जियो

अर्ज़े न्याजय इश्क़ के काबिल न रहा, जिस दिल पे नाज़ था मुझे वो दिल दिल न रहा

SHARE